Archive for February, 2015

BARACK OBAMA’S HANDS OF GOOD LUCK

BARACK OBAMA’S HANDS OF GOOD LUCK:

Taken from the White House Photo Blog – Barack Obama carries for good luck various things including: a bracelet belonging to a soldier deployed in Iraq, a gambler’s lucky chit, a tiny monkey god and a tiny Madonna and child.

Barak Obama's hands of good luck.

monkeygod32 Controversial Murti hanuman

obama hanuman monkey god

obama hanuman monkey god

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - February 7, 2015 at 10:59 am

Categories: Astrology   Tags: , ,

Symbols on palm and menaing

हाथों की उंगलियां एवं हथेली पर स्थित विभिन्न चिन्ह

palmistry

हमारे हाथ के अंगूठे के मूल में ब्रह्म तीर्थ होता है। ब्रह्म संबंधी तर्पणादि ब्रह्म क्षेत्र से ही करने चाहिए। तर्जनी एवं अंगूठे के मध्य में पितृ क्षेत्र होता है। अत: पितृ तर्पण कार्य तर्जनी एवं अंगूठे के मध्य से ही करने से पितृ तर्पण का पूरा फल मिलता है। करतल पर सभी देव एवं तीर्थ निवास करते हैं। हाथ के आगे लक्ष्मी, मध्य मे सरस्वती एवं मूल में ब्रह्म का निवास है। इसलिए हाथ देखने से पुण्य प्राप्त होता है एवं सुबह उठने के पश्चात सर्वप्रथम करतल के दर्शन करने से पुण्य फल मिलता है।

हाथों की उंगुलियां सरलता से मिलने पर जिसके हाथ में छिद्र नहीं रहता तो वह वह व्यक्ति अत्यंत भाग्यवान एवं सुखी होता है। छिद्रवान हाथ दरिद्रता का उपकारक है। तर्जनी एवं मध्यमा के मध्य में छेद न हो तो बाल्य अवस्था में सुखी होता है। मध्यमा एवं अनामिका में मध्य में छेद न हो तो युवावस्था में सुखी तथा अनामिका एवं कनिष्ठिका के मध्य छेद न होने पर वृदवस्था मे सुखी होता है।

हाथ की हथेली के रंग लाल होने पर व्यक्ति धनी होता है। पीत वर्ण होने पर धन की कमी होती है। यदि कराग्र भाग नीलवर्ण हो तो मध्यसेवी एवं दुखी जातक होता है। जिसके हाथ का मध्य भाग उन्नत हो तो वह परोपकारी होता है। करतल का मध्य भाग निम्न होने पर व्यक्ति पितृ धन से हीन होता है।

हाथ की हथेली में स्थित विभिन्न चिन्ह एवं उनके फल…

षट्कोण – जिसके हाथ में षटकोण का चिन्ह हो वह धनी एवं भूमिपति होता है।
शंख – शंख चिन्ह हथेली पर होने पर व्यक्ति समुद्र पर की यात्राएं करता है। विदेश गमन के व्यापार से धन कमाता है। धार्मिक विचारों वाला होता है।
स्वास्तिक – स्वास्तिक चिन्ह वाला व्यक्ति धनी, प्रतिष्ठित, धार्मिक यात्राएं करने वाला एवं वैभव सम्पन्न होता है।
त्रिकोण – भूमिपति, धनी एवं प्रतिष्ठित होता है।
छत्र – जिसके हाथ में छत्र का चिन्ह होता है वह राजा या राजा के समान होता है।
पद्म – धार्मिक, विजयी, राजा या राज वैभव सम्पन्न एवं शाक्तिशाली होता है।
चक्र – जिसके हाथ में चक्र के चिन्ह हो वह धनवान, वैभवशाली, सुंदर एवं ऐश्वर्यशाली होता है।
मछली – जिसके हाथ में दो मछलियों के चिन्ह हों, वह यज्ञकर्ता होता है।
कलश –जिसके हाथ में कलश का चिन्ह हो वह धर्म स्थानों की यात्रा करने वाला, विजयी एवं देव मंदिर का निर्माता होता है।
तलवार – जिसके हाथ में तलवार का चिन्ह हो वह भाग्यवान एवं राजाओं से सम्मानित होता है।
ध्वज – जिसके हाथ में ध्वज का निशान हो वह धार्मिक, कुलदीपक, यशस्वी एवं प्रतापी होता है।

MARKS ON THE HAND

transverse marksTransverse Marks

A transverse line marking on the hand is an evil sign that nullifies the positive qualities of any mount it is found upon. Though a person may have the markings of a heroic mount, these qualities can be reduced if it has a score of transverse lines. If transverse lines are found across the Mount of Mercury, it indicates that the bearer will use his/her talents of diplomacy and tact for deceit and guile for ill gains.

vertical marks Vertical Marks Vertical markings are a benefic sign. If found on the mounts, they heighten its positive qualities and assist in annulling any poor signs also located on the mount. They are the opposites of the aforementioned transverse markings. Vertical markings upon the Mount of Mercury will bring a great deal of tact and loquaciousness to serve for pleasant communication and friendship. It will emphasize science and business skills. Two vertical lines on the Mount of Mercury are often the symbol of a Doctor or Biologist.

grille lines The Grille

The grille is a point at which the energies of the hand dissipate or escape out. If grilles are found throughout the entirety of the hand, the power of its bearer is constantly drained by vexations and imagined slights. If a grille appears on the mount, it saps or thwarts the qualities of the mount, e.g. such a Grille on the Mount of Apollo will forever put off the attainment of any true success in life.

cross at palm The Cross

Crosses always denote troubles, disappointment, danger, and when found on lines, the harm to the bearer may be aggravated as the Holy Cross of Jesus Christ. Occasionally it can refer to a dramatic change in one’s life due to a crisis or hardship. They should always be considered an ill omen save for two cases: when found on the Mount of the Jupiter and when located between the Head and Heart lines, known as the “Croix Mystique”. The bearer of such a symbol is purported to possess a greater degree of mysticism, occultism, and superstition.The position of the “Croix Mystique” is also quite important. If located high up, near the Mount of Jupiter, the bearer will exhibit belief in mysticism only for their own gain. Those with crosses further from the Mount of Jupiter will care more for the principles and methods by which the mystical experience was expressed rather than its immediate application to themselves.

palm star The Star

The star is a symbol of good and sudden brilliance in a person’s life. A line that ends in a star signifies the greatest accomplishments possible; however, the star often carries with it an unpleasant price. For example if the Line of Apollo ends in a star, it denotes great fame, but this often results in the bearer suffering the loss of their private sphere to their successful public sphere.A star on the mounts will naturally denote great proficiency with the mount’s corresponding traits, yet these traits may consume some of the other bearer’s qualities. The star is certainly a sign to be viewed with great caution.

island The Island

The Island is always a negative sign. It is often a sign of some hereditary evil, such as a heart condition or intemperance with spirits, but it may just as easily represent non-congenital emotional stress. The island is a gradual and prolonged, and oft times subtle period of strife in an individual’s life. It could represent mounting stress on the line of the head, and manifest itself as headaches. On the Line of Fate, It could be a period in which the individual finds himself surrounded with mounting debts that peak at the widest point of the island.These misfortunes will last to the extent that the island is long.

palm square The Square

The square is almost always a benefic symbol. It denotes an especial significance when covering an area that is experiencing turmoil, such as chained, broken, or dotted lines. In this instance, difficulties will arise but the bearer will persevere and the crisis will be averted or thwarted. Damage may be reduced to a minimal one or prevented all together. A square after perturbations in a line signifies repair.The one instance in which the square denotes negative influences is when it is found on the upper portion of the Mount of Venus near the life line, where it denotes detention or incarceration.

palm circle The Circle

The circle is a very rare marking in palmistry. It is an evil mark unless it be on a mount, in which case it usually augments the powers and promise of a mount. If it touches any line, it brings inescapable misfortune to the line it touches.The native would go round and round in a circle without being able to break through and get free out of life’s hassles.

palm triangle The Triangle

The triangle is a positive sign, though strong significance should be ascribed to it only when it stands as an independent mark, not composed of intersecting lines. It denotes mental flourish and success corresponding to the location of the mark, i.e., if it were to be found upon the Mount of Apollo, it would denote an artistic success. If found alongside a line, it will naturally take on significance dependent upon the line.The triangle will never reach the great heights of success,but it possesses balance and will not carry with it the backlash that so often accompanies the star.

palm spots The Spot

The spot is a sign of a distinct event or malady, though it often comes in groups that denote a chronic disorder. If found on a line, it typically signifies a temporary illness corresponding to the line, e.g., a spot on the Line of Head indicates some violence to the head or brain fever.

palm trident The Trident

The trident is a most propitious marking wherever it may lay. If it rises from a line, it will expound the qualities of that line and draw additional power from the mounts or lines that branch on either side head towards. If found on a mount, the trident carries with it great flourish of the properties of that mount in conjunction with its neighboring mounts. The trident is such a powerful symbol that it eclipses the star in beneficence.

palm tassel The Tassel

A tasseled line can oft be found at the end of the lifeline; as the individual weakens and deteriorates with age, so too does the line. Such is the case with the Line of Head, where it denotes a weakening of mental clarity and approaching senility or old age ; the Line of Heart with a deteriorating heart condition or emotional trauma that has left the individual very feeble and unstable.

droping offshoots Drooping Offshoots

Lines that droop from any larger line indicate a disappointment in life. Along the Line of Heart, it denotes disappointment in love or an unfortunate event in which the individual became too emotionally involved. Along the Line of Head, it may signify the obstruction of one’s ideals or disillusionment.

palm rising offshoots Rising Offshoots

Rising offshoots are the inverse of the drooping offshoots. They represent periods of sudden inspiration, fruition, and happiness. It will draw upon the qualities of the mount that it is directed to. For example, an offshoot springing from the Line of Head and nearing the Mount of Mercury is a sign of scientific prowess–perhaps an invention, or a discovery, or a synthesis of concepts that have long been drifting through the individual’s mind, but had hitherto been dissociated.

palm sisterlines Sister Lines

Sister lines support the line along which they follow. Some sister lines are quite common, such as the Line of Mars, which accompanies and strengthens the constitution denoted by the Line of Life; The Line of Apollo is a sister line for the Line of Fate, as it serves a similar function and accentuates the fulfillment one feels in the course of their career. Sister lines protect and heal lines that are broken, crooked, frayed, or side-by-side. Lest a line exist with several negative markings, sister lines will be the guiding hand that shall shield the bearer from the brunt of life’s assaults.

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - at 10:37 am

Categories: Astrology   Tags:

Check your future wife nature through palmistry

उंगलियां देखकर चुनें जीवन संगिनी

Photo - उंगलियां देखकर चुनें जीवन संगिनी

अक्सर मर्द अपने लिए जीवनसाथी की तलाश करते वक्त रंग-रूप और हाइट में उलझकर रह जाते हैं। जीवनसाथी की तलाश कर रहे हैं, तो उनकी उंगलियों पर भी एक नज़र जरूर डाल लें। क्योंकि यही उंगलियां आपकी जीवन संगिनी के साथ आपके भविष्य के बारे में बताएंगी। आइए जानें, इन उंगलियों में कैसे छिपा है आपकी खुशहाली का राज-

यदि महिलाओं की उंगलियां गोल और लंबी हों तो ऐसी महिलाएं अपने और अपने पति के लिए भी बेहद सौभाग्यशाली मानी जाती हैं।
Photo - चिकनी, सीधी और गांठ रहित उंगलियां


चिकनी, सीधी और गांठ रहित उंगलियों का मतलब है कि ऐसी महिलाएं वैवाहिक जीवन के लिए अति उत्तम हैं।


Photo - उंगली के आगे का हिस्सा पतला हो तो


उंगली के आगे का हिस्सा पतला हो और सभी पोर एक समान हो तो इसे भी वैवाहिक सुख-शांति की नजर से बेहतर माना गया है।


Photo - उंगलियां छोटी हों तो

जिन महिलाओं की उंगलियां छोटी होती हैं, वे जरूरत से ज्यादा खर्चीली होती हैं। दोनों हाथों की उंगलियों को जोड़ने पर उनके बीच यदि खाली जगह दिख रहे हैं तो इसका मतलब भी उनका खर्चीला होना ही है। ऐसी महिलाओं का भविष्य काफी कठिनाइयों से भरा होता है।



Photo - उंगलियों में चार पर्व

महिलाओं की उंगलियों में तीन पर्व का होना भाग्यशाली होता है। लेकिन इसकी जगह यदि किसी की उंगलियों में चार पर्व यानी पोर हों और उंगलियां छोटी-छोटी हों, जिसपर मांस न हो तो वे महिलाएं पति के लिए और खुद के लिए भी भाग्यशाली नहीं होतीं।


Photo - हथेली के पीछे बाल हों तो

स्कंद पुराण में यह चर्चा की गई है कि यदि किसी महिला की हथेली के पीछे बाल हों तो संभल जाइए, क्योंकि ऐसी महिलाओं को अपने वैवाहिक जीवन में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। ऐसी महिलाओं से शादी करने का मतलब है कि आप हमेशा तनावपूर्ण स्थिति के बीच रहेंगे।

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - at 10:32 am

Categories: Astrology   Tags:

Palmistry can tell you age of marriage

 

 

हस्तरेखा से विवाह काल का ज्ञान

hastrekha-2
hastrekha-2

विवाह का समय, वैवाहिक जीवन, स्वास्थ्य आदि का ज्ञान जिस प्रकार जन्म कुण्डली में विवाह स्थान से ज्ञात होता है, उसी प्रकार हस्त रेखा में विवाह रेखा स्पष्ट करती है। हस्तरेखा से विवाह काल का ज्ञान करा रहे हैं आचार्य पवन त्रिपाठी…

विवाह रेखा सूर्य रेखा का स्पर्श कर अधोगमन करे, तो प्राणी का विवाह अनमेल होता है। यदि विवाह रेखा मस्तिष्क रेखा का स्पर्श करे तो वह व्यक्ति अपनी पत्नी का हत्यारा होता है। बुध पर्वत पर विवाह रेखा कई खण्डों में विभक्त हो जाए, तो बार-बार सगाई टूट जाती है। विवाह रेखा पर काला धब्बा होने पर प्राणी को पत्नी से सुख नहीं प्राप्त होता है। यदि विवाह रेखा ऊर्ध्वगमन करते हुए कनिष्ठा अंगुली के द्वितीय पर्व पर चढ़ जाए तो वह व्यक्ति आजीवन कुंवारा रहता है। विवाह रेखा बीच-बीच में पतली होकर पुन: चौड़ी होती हुई दिखाई, तो जीवनसाथी के अस्वास्थ्य को प्रकट करती है। ऐसे व्यक्ति की पत्नी निरंतर रुग्ण रहती है, जिसके कारण दांपत्य सुख की हानि होती है।

हस्त रेखाएं हमारे जीवन का दर्पण है। शास्त्रकारों ने इस विषय पर पर्याप्त अध्ययन कर मनुष्य को संपूर्ण शुभाशुभ फलों का निष्कर्ष प्राप्त करने में सफलता अर्जित की है। यह एक मौलिक सिद्धांत है। इसका अपवाद नहीं किया जा सकता है। मानव जीवन का चालीस प्रतिशत भाग दाम्पत्य जीवन पर आधारित है। अत: इस विषय को ठीक से ज्ञात कर लेने पर हम जीवन में सुख-शांति का आकलन कर सकते हैं। धमार्थकाम के अंतर्गत परिणय रेखा धर्म और अर्थ के मूल में अवस्थित देखी जाती है। इसी से हम व्यावहारिक जीवन की सफलता का निर्धारण में सभी एक मत हैं। पुराण, जैन मुनि तथा आधुनिक पाश्चात्य मूल तथा हृदय रेखा का उद्गम स्थल कनिष्ठिका मूल तथा हृदय रेखा के मध्य ही स्वीकार करते हैं।

इस लेख में विवाह रेखा के विभिन्न प्रकार और आकार-भेदों का सूक्ष्मता से विचार किया गया है। विवाह काल का निर्धारण, विवाह के दोनों पक्षों की स्थिति एवं भावी जीवन में इसके परिणामों को स्पष्टता के साथ परिभाषित किया गया है।

 

Knowledge of marriage age palmistry
hastrekha-2

Time of marriage, marital, health, etc. Knowledge is known as the birth place of marriage in the sun, so the palm marriage line is clear. Acharya sense of eternity are made from palm wind Tripathi marriage

Subsidence of the line tangent line to marry Sun, the creature is odd marriage. If the marriage line tangent line to the brain, that person is his wife’s killer. Be divided into several sections on the Mount of Mercury marriage line, the engagement is broken repeatedly. Marriage is a black spot on the line does not get pleasure from the creature wife. If the marriage line up to higher if the pinky finger on the second occasion he is a lifelong bachelor. Thin line in between the wedding and again appears to be wide, reflects the sickness of the soul. The wife is constantly sick person, which is the loss of marital happiness.

Hand lines that mirror our lives. Shastrkaron adequate studies on the subject of human success in achieving overall conclusion is Shubashub fruit. It is a fundamental principle. The exception may be. Forty percent of human life is based on conjugal life. So at this point to determine accurately assess peace in life we can. Dmarthakam the knot line located at the origin of religion and the meaning is seen. By this we are not all in determining the success of the practical life. Mythology, Jain monk and the cradle of modern Western origin and heart line Knishtika heart line between original and accept.

In this article, various types and sizes of marriage line finelymysteries have been considered. Marriage period to determine the position of both sides of the marriage and its consequences in the future life is defined with clarity.

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - at 10:21 am

Categories: Astrology   Tags:

Palmistry – Back side of hand your luck

Dorsal side of the palm and predictions about you

आपका कर पृष्ठ और आपका भाग्य
back-of-palm

back-of-palm

हथेली का पिछला हिस्सा

सामुद्रिक शास्त्र में जहां करतल(हथेली), करतल की रेखाएं, उंगलियां और नाखून का सूक्ष्म अध्ययन किया जाता है, वहीं कर पृष्ठ यानी हथेली के पिछले हिस्से का भी गहन विश्लेषण किया जाता है। इसके आकार-प्राकर से व्यक्ति की क्षमता, योग्यता, स्वभाव, गुण, अवगुण की विवेचना की जाती है। कर पृष्ठ की बनावट, उभार और प्राकर का सामुद्रिक शास्त्र में बहुत महत्व है।

‘हस्तपृष्ठं सर्पफणाकारं रोम विवर्जितम्।
श्रेष्ठ मांसलमुच्चांगं मणिबंधाकितं शभम्।।’

अर्थात् यदि कर पृष्ठ सर्प के फन के आकार का हो यानी उसमें थोड़ा उभार हो तो, कर पृष्ठ रोम यानी रोयें से रहित हो, मांस से युक्त हो तथा मणिबंध से उच्च हो तो ऐसे हाथ वाला व्यक्ति शुभ फल प्राप्त करता है। ऐसे लोग उत्तम गुणों से युक्त होते हैं।

सांप के फन के आकार के कर पृष्ठों को श्रेष्ठ माना गया है।

‘अथ शस्तं कर पृष्ठं विस्तीर्ण पीनमुन्नतं स्निग्धं।
निगूढ़ शिरं परितः क्षोणिपतेः फणिफणाकारम्।।’

अर्थात् राजाओं व कुलीन लोगों के कर पृष्ठ उच्च, घन के आकार वाले,स्निग्ध(चिकने) व नस रहित होते हैं। प्राचीन ग्रंथों में उभरे हुए कर पृष्ठ को श्रेष्ठ तो माना गया है लेकिन सिर्फ उच्च होना पर्याप्त नहीं है। इसके अलावा भी कई शुभ चिन्हों और प्रकार का वर्णन प्राप्त होता है।

‘विवर्ण पुरुषं रूक्षंरोमशं मांसवर्जितम्।
मणिबंध समं निम्नं न श्रेष्ठं कर पृष्ठम्।’

अर्थात् विवर्ण यानी रंगहीन (फीके रंग के), सूखे, रोयें वाले, बिना मांस के, खुरदुरे, मणिबंध के स्तर के मणिबंध से निम्न कर पृष्ठ श्रेष्ठ व शुभ फल प्रदान नहीं करते। स्कंद पुराण में कहा गया है कि जिन स्त्रियों के कर पृष्ठ रोम वाले, बेडौल, नसयुक्त और बिना मांस के हों उनका जीवन दुखी और संघर्षमय होता है।

रोम (रोयें): कर पृष्ठ पर रोम यानी छोटे-छोटे बाल का न होना शुभ लक्षण है। यदि कर पृष्ठ रोम रहित होता है तो व्यक्ति भाग्यशाली, ऐश्वर्यवान, सक्षम, योग्य व सफल होता है। कर पृष्ठ पर यदि छोटे-छोटे व मृदु रोम पाए जाएं तो यह शुभ फल में कुछ कमी तो करेगा फिर भी भविष्य बेहतर होगा। मृदु रोम वाले व्यक्ति बहुत थोड़े संघर्ष के साथ पर्याप्त सुख भोगते हैं। पर यदि कर पृष्ठ पर कड़े बाल यानी लंबे और कड़े रोम संघर्ष में वृद्धि कर भाग्य के शुभ प्रभाव में बेहद कमी का संकेत देते हैं। ऐसे लोगों का भाग्य साथ नहीं देता। इन्हें पूरी तरह से कर्म पर निर्भर होना पड़ता है।

नसः कर पृष्ठ पर हरे, सफेद या किसी भी रंग की नसों का दिखना शुभ नहीं होता। सदैव नस विहीन कर पृष्ठ ही शुभ फल प्रदान करते हैं।

निम्न कर पृष्ठः मणिबंध से निम्न कर पृष्ठ बेहद अशुभ होते हैं। कर पृष्ठ पर गड्ढे जैसी स्थिति भी श्रेष्ठ फल नहीं देती। यह जीवन में संघर्ष, संकट, उदासी, उत्साहहीनता व धन की कमी का स्पष्ट संकेत है।

उच्च कर पृष्ठः उच्च कर पृष्ठ समस्त सुख प्रदान करने वाले होते हैं। इस तरह के कर पृष्ठ वाले जीवन में समस्त वैभव व आनंद को भोगते हैं। ये लोग भाग्यशाली, ऐश्वर्यवान, शक्तिशाली व भू पति होते हैं।

समतल कर पृष्ठः मणिबंध के स्तर के कर पृष्ठ शुभ और अशुभ दोनों फल देते हैं। यदि बीचों-बीच कर पृष्ठठ अंदर की तरफ दबे होते हैं तो यह धन हानि व रोग का संकेत है। पर यदि कहीं-कहीं कर पृष्ठ मणिबंध से ऊपर की ओर हैं तो यह स्थिति छोटे-छोटे लाभ की ओर इशारा करती है।

 

हस्तरेखा बताती है कि कौन होंगे धनी
palm-reading1
palm-reading1
हममें से लगभग सभी को सुख-समृद्धि और धन संपत्ति पाने के लिए कठिन परिश्रम करना पड़ता है, लेकिन कुछ ऐसे भी होते हैं, जो मेहनत न भी करें फिर भी मां लक्ष्मी का आशीर्वाद बना रहता है उनपर । आइए जानें, कैसी हस्त रेखाएं धन-सम्पत्ति का सूचक होती हैं।

जिनकी भाग्य रेखाएं एक से अधिक होती हैं और सभी ग्रह पूर्ण विकसित नजर आते हैं, कहा जाता है ऐसे लोग करोड़पति होते हैं।

जिनकी उंगलियां सीधी और पतली होती हैं तथा हृदय रेखा बृहस्पति से नीचे जाकर समाप्त नजर आए तो समझिए उस व्यक्ति को धन-संपत्ति की कभी कोई कमी नहीं होती।

जिनकी हस्तरेखा में भाग्यरेखा की कोई लाइन जीवन रेखा से निकलती प्रतीत होती है और हथेली सॉफ्ट तथा पिंक हो तो ऐसे लोगों के नसीब में अथाह संपत्ति होती है।

जिनके हाथ नरम होने के साथ-साथ भारी और चौड़े हों उन्हें धन की कभी कोई कमी नहीं होती।

भाग्य रेखा अधिक होने के साथ-साथ शनि उत्तम हो और जीवन रेखा घुमावदार हो तो ऐसे व्यक्ति के पास धन-समृद्धि की कभी कोई कमी नहीं होती।

जब जीवन रेखा के साथ-साथ मंगल रेखा अंत तक नजर आए तथा हथेली भारी हो तो समझ लीजिए कि उन्हें पैतृक संपत्ति से धन-संपत्ति प्राप्त होना है।

जिनकी भाग्य रेखाएं एक से अधिक नजर आती हैं और उंगलियों के आधार एक समान हो तो समझिए उन्हें कहीं से अनायास ही धन मिलने वाला है।

जिनकी भाग्य रेखा जीवन रेखा से दूर हो और चंद्र से निकलकर कोई पतली रेखा भाग्य रेखा में मिलती नजर आती हो और इसके अलावा चंद्र, भाग्य और मस्तिष्क रेखाएं ऐसी दिखे जिससे त्रिकोण बना नजर आए और ये सारी रेखाएं दोष रहित हों, उंगलियां सीधी और सभी ग्रह पूर्ण रूप से विकसित हो तो ऐसे लोगों को अकस्मात धन मिलता है।

 

आपकी हथेली का रंग और आपका भविष्य
palm-colour
हथेली का रंग और आपका भविष्य तस्वीरः

palm-colour
हस्तरेखा विज्ञान में जहां रेखाओं और चिन्हों के साथ हाथ व नाखून के प्रकार महत्वपूर्ण होते हैं वहीं हथेलियों के रंगों की भी भविष्य कथन में बड़ी भूमिका होती है।

ग्रथों में स्पष्ट वर्णन है…
‘धनी पाणितले रक्ते नीले मद्यं पिवेन्नरः।
आग्रायागमनः पीते कहमले धनवर्जितः।’
अर्थात् समृद्ध व धनी व्यक्ति की हथेली का रंग ‘रक्त वर्ण’यानी लाल होता है। नीले रंग की हथेली वाले मद्य प्रेमी यानी शराबी होते हैं। कहमले यानि मटमैले रंग की हथेली वाले लोग सामान्यतः धनहीन होते हैं।

हस्त संजीवन नामक ग्रंथ में भी लाल रंग की हथेली को सर्वश्रेष्ठ माना गया है।
‘करतलैर्देव शार्दूल लक्ष्माभैरीश्वराः स्मृताः।
अगम्यागामीनः पीतैरक्षैनिर्धनता स्मृताः।
अपेयपानं कुर्वन्ति नील कृष्णैस्तभैव च।’
अर्थात् हथेली का रंग लाल होना व्यक्ति के ऐश्वर्यशाली होने का प्रतीक है। चमकीला व चिकना हस्त धनी होने का संकेत है। आभाहीन व शुष्क हस्त दरिद्रता का कारक है। नीला व काला हाथ शराबी तथा पीत हस्त व्यभिचारी होने के लक्षण हैं।

हथेली का रंग व उसके प्रकार
लाल रंगः इस रंग की हथेली वाले लोग जीवन में समस्त ऐश्वर्य को भोगते हैं। इन्हें नाना प्रकार के सुख और आनंद प्राप्त होते हैं। ये लोग प्रचुर धन के स्वामी होते हैं। स्वभाव से ये भावुक और क्रोधी होते हैं। ये लोग वैचारिक रूप से अस्थिर होते हैं।

गहरा गुलाबीः इस तरह की हथेली वाले सामान्यतः धनी होते हैं। ये लोग क्रोधी व तुनक मिजाज भी होते हैं। इनकी बुद्धि स्थिर नहीं होती। ये जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं और जल्दी नाराज भी हो जाते हैं। इनके विचार, सोच, पसंद, नापसंद सब कुछ परिवर्तनशील होते हैं। इन्हें मध्य आयु तक हाई ब्लड प्रेशर की समस्या घेर लेती है।

हल्का गुलाबीः ये लोग उत्तम मानवीय गुणों से संपन्न, धनी व ऐश्वर्यशाली होते हैं। इनके अंदर गजब का उत्साह पाया जाता है। धैर्य इनमें कूट-कूट कर भरा होता है। दया, क्षमा और प्रेम इनके स्वभाव का मूल आधार है। ये लोग आशावादी व प्रसन्नचित्त होते हैं। ये लोग कला एवं प्रकृति प्रेमी होते हैं।

पीलाः ये लोग दृढ़ विचारों वाले नहीं होते। मानसिक रूप से परेशान व निराशावादी होते हैं। स्वभाव में मधुरता की कमी होती है। इन्हें पैरों के रोगों से कष्ट प्राप्त होता है। आलस्य के कारण प्रगति नहीं कर पाते। इनके जीवन में संघर्ष होता है।

बैगनी या नीलाः नीले या बैगनी रंग की हथेली वाले निराशावादी होते हैं। इनके जीवन में संघर्ष की अधिकता होती है। ये लोग एकान्त वाली होते हैं। इन्हें रक्त विकार से कष्ट प्राप्त होता है। मद्यपान सहित अन्य व्यसनों की ओर लगाव होने कार्यक्षमता व प्रतिभा नष्ट होने लगती है। ये लोग समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी से दूर रहते हैं। स्वभाव से ये लोग रूखे व चिड़चिड़े होते हैं।

मटमैला रंगः काले, भूरे या मटमैले रंग की हथेली वाले लोग कर्मठ नहीं होते। ये लोग बेहद रहस्यवादी होते हैं। बातचीत में असत्य तथ्यों का सहारा लेते हैं। पुरुषार्थ की कमी होती है। इनका व्यक्तित्व निस्तेज होता है। स्वास्थ्य की समस्याओं से घिरे रहते हैं ये लोग। इनके चेहरे पर उदासी का भआव होता है। धन की कमी बनी रहती है। इन्हें रक्त व कफ संबंधी समस्याएं प्राप्त होती हैं।

निस्तेज सफेदः सफेद हथेली के लोग उत्साहहीन व एकांत प्रिय होते हैं। मानसिक शक्ति की कमी होती है। ये लोग बहुत कर्मठ नहीं होते।

चमकदार सफेदः चमत्कारी श्वेत हथेली वाले लोग अलौकिक शक्तियों के स्वामी होते हैं। इन्हें पराशक्ति का ज्ञान होता है। विचारों से ये बेहद संतुलित होते हैं। इनकी विचारधारा आध्यात्मिक होती है। ये लोग शांति के दूत होते हैं। ये लोग स्वस्थ रहते हैं।

हथेली के रंगों का परीक्षण करने से पहले हाथ का स्पर्श नहीं करना चाहिए अन्यथा हाथ के घर्षण से, स्पर्श से, व्यायाम से, कठिन श्रम से हथेली का रंग क्षणिक रूप से बदल जाता है। इससे भविष्य कथन में व्यवधान उत्पन्न होता है या भविष्यकथन प्रभावित हो सकता है। अतः जब व्यक्ति स्वस्थ हो, आराम से बैठा हो, तनाव में न हो तभी रंगों का परीक्षण सत्य भविष्य का संकेत दे सकेगा।

 

If your page and your fate
back-of-palm
The latter part of the palm

In scripture sea palm (palm), lines of palm, fingers and nails are microscopic study, the page that there is a thorough analysis of the back of the palm. The size of the individual’s ability dingo, ability, temperament, properties are assessed demerit. The texture of the page, the emergence of the dingo in ocean chemistry is very important.

Hstprishtn Srpfnakarn Viwarjitm Rome.
Best Manslmuchchangan Sbm Manibndhakitn ..

If the page size of the snake that is the fun in that little bulge, if the page is devoid of Rome, the feathers, meat and wrist containing high auspicious if a person receives a hand. There are people with good qualities.

Best pages on the size of the snake is considered fun.

There Prishtn Sstn meaning Snigdn Pinmunntn roomy.
Prita Shirn Fnifnakarm Kshonipteः deeper ..

Namely the page of the high kings and nobles, cube-shaped, glossy (smooth) and vein are free. Ancient texts have raised the page but just high enough to be considered the best, so do not. Further description of the type and receive many auspicious signs.

Discolored Purusn Manswarjitm Rukshnromshan.
Do not Nimnan Sreshtn Prishtm Smn wrist.

Namely discolored or colorless (pale color), dried, coat, with no meat, rough, do the following pages from wrist to wrist level do not provide excellent and auspicious. Skanda Purana states that the women of the page Rome, unformed, venous and miserable life and struggle without meat is appropriate.

Rome (feathers): Rome, the small hairs on the page is the absence of good traits. If the page is devoid Rome lucky person, Aeshwarywan, competent, qualified, and succeeds. Rome found on the page to the small and mild reduction in auspicious if it will be even better future. Rome soft enough delighted with the person who has very little conflict. The long and stiff bristles on the page on the conflict to increase Rome scarce in effect, indicating good luck. The fate of those who do not. They have to be totally dependent on karma.

On page Nsः green, white or any color would be good to look jittery. Always vein page without providing the auspicious.

By following the following page Page: carpi are extremely unlucky. Besides, does not pit the best fruit on the page. The struggle in life, distress, sadness, gloom and is a clear indication of a lack of funds.

Home Page: All‘s well that provide high taxes are high. In the life of such a page would suffer all the splendor and joy. These guys are lucky, Aeshwarywan, are powerful and Land husband.

Page: page-level wrist flatten both good and evil fruit. There Prishtt the middle are buried on the inside, it is a sign of wealth loss and disease. If somewhere on the page above the wrist, it refers to the situation of small gains.

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - at 9:56 am

Categories: Astrology   Tags: ,

Your financial situation find through your fingers

 

उंगलियां बताएंगी आपकी आर्थिक स्थिति

हस्तरेखा और आर्थिक स्थिति
palm-reading
धन-संपत्ति का होना या आपकी जिंदगी में इसका आना काफी हद तक आपके टैलंट के साथ-साथ आपके हाथों की रेखा पर भी निर्भर करता है। आइए, जानें कि उंगलियों को देख आप कैसे पता लगाएंगे कि आपकी जिंदगी में कब धनागमन होगा या फिर इन चीजों से आपका जीवन सूना रहेगा।

1. यदि आपकी कनिष्ठा उंगली और अनामिका उंगली को आपस में सटाने के बाद बीच में गैप नज़र आ रहा हो तो समझ लीजिए कि बुढ़ापे में पैसों की तंगी से आप परेशान हो सकते हैं।

2. यही गैप यदि मध्यमा और अनामिका उंगली के बीच नज़र आ रही हो तो साफ है कि युवा अवस्था में आप पैसों के संकट से जूझ सकते हैं।

3. यदि मध्यमा और तर्जनी के बीच यह गैप हो तो बचपन में जातक को आर्थिक समस्या से सामना करना पड़ सकता है।

4. यदि यह गैप किसी भी उंगली के बीच न हो तो इसका अर्थ है कि व्यक्ति जन्म भर धन-संपत्ति से परिपूर्ण रहता है।

5. यदि उंगलियों के सभी पर्व लंबे हों तो व्यक्ति धनवान होता है।

6. यदि मध्यमा उंगली के तीसरे पर्व के करीब अनामिका आकर मिल गई हो तो ऐसे लोग कलाकार, बुद्धिमान, विद्वान और विचारशील होते हैं और इस क्षेत्र में धन कमाते हैं।

7. यदि अनामिका उंगली सीधी और लंबी है तो समझ लें कि जातक धन कमाने के मामले में काफी कुशल होता है।

8. यदि अनामिका उंगली तर्जनी के समान लंबी हो और उसका पहला पर्व चपटा हो तो व्यक्ति को खूब धन व सम्मान मिलता है।

9. यदि व्यक्ति की उंगलियों में अनामिका का तीसरा पर्व ज्यादा लंबा हो और गांठें उन्नत हों तो बिना वह किसी परेशानी के धन कमाने में लीन रहता है।

10. यदि जीवन रेखा से कई छोटी रेखाएं नज़र आएं और यह ऊपर की ओर जाती दिखे तो समझ लीजिए कि उस खास उम्र में व्यक्ति धन-संपत्ति और सम्मान पाता है।

11. यदि मस्तिष्क रेखा से कोई रेखा गुरु पर्वत की ओर जाए और उसके अंत पर क्रॉस जैसे निशान हो या फिर कोई टेढ़ी-मेढ़ी रेखा हो तो ऐसे लोगों को चाहकर भी धन पाने में सफलता नहीं मिल पाती।

12. अंगूठे के दोनों पर्व यदि कठोर और बराबर हैं तो यह धन और बिजनेस को खूब बढ़ाता है।

 

Your financial situation find through your fingers

Palmistry and economic situation

Having wealth in your life come your TALANT with largely depends on your palm. Let us know how you see the fingers that your life will find these things in your life when Dnagmn or be deserted.

1. If your little finger and ring finger together after Stane visible gap between the old cash-strapped so consider this as you can be bothered.

2. The gap between the middle and ring finger seem to be clear that as a young man are starved of funds.

3. The gap between the middle and index fingers, then the economic problems faced in childhood is native.

4. If the gap is not between any finger means that the person is full of wealth throughout the birth.

5. If the fingers are longer and so the festival is rich.

6. under the middle finger ring finger got closer to the third festival artists such people, intelligent, and thoughtful scholar and earn money in this area.

7. If the ring finger is straight and long to understand the native is very efficient in terms of making money.

8. If the ring finger and the index finger of his first event as long the person will be flattened to get money and respect.

9. If the person’s fingers are longer than the ring finger and the third occasion when advanced bales is absorbed in making money without any hassle.

10. Come see the life line and it leads to many smaller lines let you see it at that particular person finds wealth and respect.

11. If the head line and the end of a line to master the mountain trail or on the cross as a squiggly line, so that people do not get left behind succeeded in funding.

12. Feast of thumb, if the two are equal, then it is hard and plenty of money and business increases.

 

हाथ की उंगलियां और आपकी पर्सनैलिटी
palmistry
हस्तरेखा और आपका व्यक्तित्व
palmistry

हाथ की उंगलियां एवं हथेली में स्थित विभिन्न ग्रहों के पर्वत व्यक्ति के विचारों एवं भावनाओं को दर्शाते हैं। मनुष्य के विचार एवं भावनाएं सत्व, राजस एवं तमस गुणों का मिश्रण होते हैं। सत्व गुण की मुख्य विशेषता ज्ञान एवं सहनशीलता है। अन्य विशेषताएं करुणा, विश्वास, प्रेम, आत्म-नियंत्रण, समझ, शुद्धता धैर्य, और स्मृति हैं। राजस की मुख्य विशेषता गतिविधि एवं प्रवृत्ति है। अन्य विशेषताएं महत्वाकांक्षा, गतिशीलता, बेचैनी, जल्दबाजी, क्रोध, ईर्ष्या, लालच, और जुनून है। तमोगुण की मुख्य विशेषता है जड़ता या मूढ़ता। अन्य विशेषताएं सोच या व्यवहार, लापरवाही, आलस, भुलक्कड़पन, हिंसा और आपराधिक विचार हैं।

मनुष्य के विचारों में किस गुण की प्रधानता है इसका निर्धारण उस मनुष्य की हाथ के हथेलियों मे स्थित विभिन्न ग्रहों के पर्वत एवं उंगलियों को देखकर किया जा सकता है। हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार हाथ की हथेली को मुख्यतः तीन भागों मे विभाजित किया जाता है। ये तीन भाग सत्व, राजस एवं तमस गुणों का प्रतिनिधित्व करते हैं। हथेली के अग्र भाग मे स्थित गुरु, शनि, सूर्य एवं बुध के पर्वत जो कि क्रमशः तर्जनी, मध्यमा, अनामिका एवं कनीष्टिका उंगलियों के ठीक नीचे स्थित होते हैं। मनुष्य के सात्विक गुणों को दर्शाते है। मंगल का उच्च पर्वत एवं मंगल का निम्न पर्वत जो हथेली के मध्य भाग में स्थित होते हैं राजसिक तत्व का प्रतिनिधित्व करते हैं। शुक्र एवं चंद्रमा के पर्वत हथेली के निचले भाग मे स्थित होते हैं। ये मनुष्य के तामसिक गुणों का प्रतिनिधित्व करते हैं। जिस ग्रह का पर्वत जितना उभरा हुआ होगा व्यक्ति में उस ग्रह से संबन्धित गुण उतने ही अधिक होंगे।

हाथ की उंगलियों में सत्व, राजस एवं तमस गुण क्रमश उंगली के ऊर्ध्व, मध्य एवं निम्न भाग दर्शाते हैं। उंगलियों के ये भाग अंग्रेजी में फैलैंगक्स के नाम से जाने जाते हैं। व्यक्ति थ की हथेलियों एवं उंगलियां को देखकर उसके व्यक्तित्व, आचार, विचार एवं व्यवहार के बारे में बहुत कुछ पता लगाया जा सकता है।

उंगलियों का निचला भाग जो कि हथेली से जुड़ा हुआ होता है व्यक्ति की महत्वाकांक्षाओं को दर्शाता है। यह भाग व्यक्ति के भौतिक, आर्थिक स्तर, उसके खान-पान, रहन-सहन, सामाजिक स्तर आदि के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी देते हैं। उंगली के इस भाग से शरीर एवं बुद्धि के सामंजस्य का अध्ययन किया जाता है। उंगलियों का मध्य भाग व्यक्ति की व्यावहारिकता एवं उसके आस-पास के वातावरण से उसके सामंजस्य का आभास होता है। उंगली के इस भाग से व्यक्ति के कार्य क्षेत्र एवं व्यवसाय के बारे में भी जानकारी मिलती है। उंगलियों के ऊर्ध्व भाग से व्यक्ति की नियमबद्धता, दूरदर्शिता, कार्यकुशलता, सदाचरण एवं नैतिक मूल्यों का पता चलता है।

जिन व्यक्तियों की उंगलियों के तीनों भाग बराबर होते हैं उनका व्यक्तित्व आमतौर पर संतुलित होता है। जब एक व्यक्ति की उंगलियों के ऊर्ध्व एवं मध्य भाग बराबर होते हैं तब उस व्यक्ति की संकल्प शक्ति एवं निर्णय लेने की क्षमता मे सामंजस्य होता है। यदि ऊर्ध्व भाग अन्य दो भागों से बड़ा होता है तो संकल्प शक्ति की कमी का कारण व्यक्ति अपनी इच्छाओं एवं आकांक्षाओं की पूर्ति में कमी पाता है। संकल्प शक्ति की कमी के कारण सही निर्णय लेने की क्षमता भी प्रभावित होती है एवं व्यक्ति अपनी इच्छाओं तथा आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए सही निर्णय नहीं ले पाता है।

यदि उंगलियों का मध्य भाग अन्य दो भागों से अधिक लंबा है तो व्यक्ति की तार्किक क्षमता एवं बौद्धिक क्षमता प्रबल होती है। परंतु उसकी संकल्प शक्ति एवं कार्य के प्रति एकाग्रता मे कमी कारण सफलता मिलने मे देरी हो सकती है। ऐसे व्यक्ति दूसरों की सफलता देखकर ईर्ष्या की भावना से भी ग्रस्त हो सकते हैं। क्योंकि बुद्दिमत्ता में अन्य व्यक्तियों से कम न होने पर भी वे उनके जीतने सफल नहीं होते हैं। परंतु इसका प्रमुख कारण यह है कि उनकी संकल्प शक्ति एवं इच्छा शक्ति मे कमी है और इसे केवल मेहनत एवं कठिन परिश्रम से ही जीता जा सकता है।

यदि उंगलियों का निम्न भाग अन्य दो भागों से अधिक लंबा होता है तो आप विवेक पूर्ण एवं परिस्थिति के अनुसार निर्णय लेने में समर्थ हैं। ऐसे व्यक्ति भावुक प्रकृति के होते हैं। वे अपना समय, पैसा एवं सलाह जरूरतमंदों के लिए खर्च करने के लिए सदैव तत्पर रहते हैं। इसके लिए यदि उन्हे आलोचना भी सहनी पड़े तो वे उसके लिए तैयार रहते हैं।

हाथ की उंगलियों की स्थिति जिस व्यक्ति की पूर्ण रूप से व्यस्थित होती है वे व्यक्ति जीवन में बहुत सफल होते हैं। लंबी एवं पतली उंगलियों वाले व्यक्ति भावुक होते हैं जबकि मोटी उंगलियों वाले व्यक्ति मेहनती होते हैं। जिन व्यक्तियों की उंगलियां कोण के आकार की होती हैं वे अत्यधिक संवदेनशील होते हैं तथा अपनी वेषभूषा एवं सौन्दर्य का विशेष ध्यान रखते हैं। जिन व्यक्तियों की उंगलियां ऊपर से नुकीली होती हैं वे आध्यात्मिक प्रवृत्ति के होते हैं तथा इनकी कल्पना शक्ति अद्भुत होती है। स्वभाव से ये नम्र होते हैं।

जिन व्यक्तियों की उंगलिया ऊपर से चौकोर होती हैं वे व्यावहारिक,तर्कसंगत एवं नम्र होते हैं। ये परम्पराओं एवं रूढ़िवादिता में विश्वास रखते हैं। जिनकी उंगलियां स्पैचुल के आकार की होती हैं वे व्यक्ति साहसी, यथार्थवादी एवं घूमने के शौकीन होते हैं। ये कार्य करने के शौकीन होते है एवं अनेक विषयों के ज्ञाता होते हैं। इस तरह के व्यक्ति वैज्ञानिक, इंजिनियर या कार्य कुशल तकनीशियन होते हैं।

जिन व्यक्तियों की उंगलियां सीधी होती हैं वे व्यक्ति ईमानदार, शालीन एवं न्यायसंगत होते हैं। जीवन में अच्छी तरक्की करते हैं। जिन व्यक्तियों की उंगलियां गांठदार होती हैं वे बहुत व्यावहारिक एवं अच्छे नियोजक होते है। वे स्पष्टवक्ता होते है। लंबी उंगलियों वाले व्यक्ति शिक्षा में रुचि रखते हैं एवं अच्छे विश्लेषक होते हैं।

जिस हाथ में उंगलियों की स्थिति अव्यवस्थित होती है विशेष तौर पर जब कनिस्ठिका उंगली जो कि बुध की उंगली के नाम से जानी जाती है बहुत छोटी होती है तब व्यक्ति में आत्मविश्वास की कमी पाई जाती है।

उंगलियों की आकृति धनुषाकार होने पर व्यक्ति का व्यक्तित्व संतुलित होता है तथा वह व्यक्ति बहुत विचारशील होता है।

Hand fingers and your personality
palmistry
Palmistry and Your Personality

Located in the fingers and palm of the hand of the mountain people of different planets reflect the views and feelings. Thoughts and feelings of human nature, rajas and tamas are a combination of properties. The main feature of the property is the core knowledge and tolerance. Other features compassion, faith, love, selfcontrol, understanding, patience, purity, and memory. The main feature of the rajas activity and trend. Other features ambition, mobility, restlessness, haste, anger, envy, greed, and passion. The main characteristic of tamo inertia or folly. Other Features thinking or behavior, negligence, laziness, forgetfulness, violence and criminal ideas.

Determine which properties are dominated by the ideas of man to man in the palms of the hands and fingers, looking at the different planets may be mountain. According to palmistry hand is primarily divided into three parts. The three-part entity, rajas and tamas represent properties. Located in front of palm Thu, Sat, Sun and Mercury respectively mountain that index, middle, ring and Knishtika are located just below the toes. Man is showing a virtuous qualities. Tue Tue of high mountain and the mountain are located in the central part of the palm represent rajasic element. Venus and the Moon are located in the lower part of the mountain palm. These properties represent a vengeful man. The planet would have emerged as one of the mountain, the more properties that are related to the planet.

Entity in the fingers of the hand, rajas and tamas properties finger vertically respectively, middle and lower part of the show. This portion known as the fingers are Falangks in English. The palms and fingers of the person looking at it was his personality, behavior, thoughts, and behavior can be traced much about.

Fingers are attached to the bottom of the palm represents the aspirations of the individual. This part of the individual physical, economic level, the food, lifestyle, social status, etc. are important information about. Harmony of body and mind in this part of the finger is studied. Viability of individual fingers and around the central part of the environment are reflected in the reconciliation. This part of the work area from the person’s finger and get information about the business. Dorsum of the fingers of the individual red tapery, foresight, efficiency, good conduct and moral values reveals.

Individuals who are equal parts of three fingers of his personality is generally balanced. Vertically and the central part of a person’s fingers are equal and the determination of the person‘s ability to make decisions in harmony. The other two parts is greater than the upper part, the reduction in the resolution to their wishes and aspirations of the reduction in the finds. Lack of determination affects the ability to make the right decisions and to cater to their desires and does not take the right decision.

The central part of the finger is longer than the other two parts of the individual logical ability and intellectual capacity is strong. But his determination and success in business due to the decrease in concentration may be delayed. Seeing the success of others, a person may suffer from feelings of jealousy. In the absence of other persons at the Buddimtta they are not able to win them. But the main reason is lack in their determination and will power and it can be won only through hard work and hard labor.

Lower part of the finger is longer than the other two, you are sensible and able to decide according to the situation. There are emotional in nature. Their time, money, and advice are always available to spend for the needy. Then they should suffer for it if they live up to criticism.

The position of the fingers of the hand of the person who is fully organize the person they are very successful in life. Long and thin fingers are passionate person, while thick fingers are hardworking person. They are individuals who are highly sensitive to the size of the fingers are angles and special care of your dress and beauty. They are individuals who spiritual fingers are pointed up and they have wonderful imaginations. These are gentle by nature.

The fingers are individuals who they square up practical, rational and are gentle. They believe in tradition and conservatism. Whose fingers are shaped Spachul courageous individuals, realistic and are fond of walking. They are fond of work and are well versed in many subjects. Such individual scientist, engineer or technician jobs are skilled.

Fingers of individuals who are straight, honest individuals, are decent and equitable. While good progress in life. They are individuals who are kinky fingers are very practical and good employer. They are honest. Long fingers and the person you are interested in learning are good analyst.

The fingers of the hand, especially when the situation is chaotic Knistika finger is called the finger of Mercury is very small lack of confidence in the person is found.

Fingers arched shape is balanced personality of the person and the person is very thoughtful.

 

अंगूठा 60 डिग्री तक खुले तो व्यक्ति समझदार

हाथ की रेखाएं और हथेलियों के पर्वत
PALM-2

हाथ में चार उंगलियां होती हैं तथा प्रत्येक उंगली किसी एक ग्रह का प्रतिनिधित्व करती है।

· तर्जनी उंगली – गुरु

· मध्यमा – शनि

· अनामिका – सूर्य

· कनिस्ठिका – बुध

तर्जनी उंगली
यह उंगली व्यक्ति की महत्वाकांक्षा, अहम एवं नेतृत्व की क्षमता को दर्शाती है। इस उंगली से व्यक्ति के भाग्य एवं कार्य क्षेत्र के बारे मे जानकारी मिलती है। तर्जनी उंगली की सामान्य लंबाई मध्यमा के ऊपरी भाग के मध्य तक होती है। यदि यह उंगली सामान्य से अधिक लंबी होती है तो व्यक्ति में नेतृत्व की क्षमता बहुत होती है। इसके विपरीत इसके छोटे होने पर व्यक्ति सामान्यत: दूसरों के मार्गदर्शन में ही कार्य करता है या वह अकेले की कार्य करना पसंद करता है तथा स्वयं का ही कुछ कार्य करता है। इस उंगली का लंबा होने पर व्यक्ति का गुरु प्रबल होता है।

यदि तर्जनी उंगली सामान्य से अधिक लंबी हो, तो व्यक्ति में लापरवाही और तानाशाही बढ़ जाती है। जब यह छोटी हो तो व्यक्ति में ये विशेषताएं लुप्त होती हैं। यदि यह उंगली विकृत है तो व्यक्ति चालाक, स्वार्थी और पाखंडी होता है।

जब तर्जनी उंगली का पहला खंड लंबा हो तो व्यक्ति राजनीति, धर्म, और शिक्षण क्षेत्रों में कुशल होते हैं। यदि उंगली का दूसरा खंड लंबा हो तो व्यक्ति व्यापारी होता है और उंगली का तीसरा खंड लंबा हो तो ऐसे व्यक्ति विभिन्न प्रकार के व्यंजन के शौकीन होते हैं।

गुरु पर्वत तर्जनी उंगली से नीचे होता है। पूर्ण विकसित गुरु पर्वत वाले व्यक्ति लोक नेतृत्व की आकांक्षा, नीति से पूर्ण एवं स्वाभिमानी होते हैं। ऐसे व्यक्ति शासन एवं नेतृत्व में कुशल होते हैं। विकसित गुरु पर्वत व्यक्ति को महत्वाकांक्षी बनाता है। यह लोग धन से अधिक अपने ओहदे को महत्व देते हैं। ऐसे लोग अच्छे सलाहकार होते हैं। यह लोग कानून के दायरे में रह कर कार्य करते हैं। ऐसे लोग अनेक तरह के व्यंजन खाने के शौकीन होते हैं और अपने परिवार से मोह करते हैं।

अधिक विकसित गुरु पर्वत व्यक्ति को अहंकारी, दिखावटी, क्रूर और इर्ष्यालु बनाता है। ऐसे लोग अधिक खर्चीले होते हैं।

यदि गुरु पर्वत अर्द्धविकसित हो तो व्यक्ति में गुरु संबंधित बुनियादी प्रवृत्ति विकसित नहीं होती है।

मध्यमा उंगली
इस उंगली को शनि की उंगली भी कहा जाता है तथा यह व्यक्ति की सचाई, ईमानदारी एवं अनुशासन को दर्शाती है। यदि यह उंगली सामान्य लंबाई की होती है यानि अन्य उंगलियों से लंबी परंतु बहुत अधिक लंबी नहीं तो व्यक्ति जिम्मेदार एवं गंभीर व्यक्तित्व का धनी होता है एवं महत्वाकांक्षी होता है। यदि यह उंगली सामान्य से अधिक लंबी हो तो वह व्यक्ति अकेले में रहना पसंद करता है। तथा वह व्यक्ति किसी गलत कार्य मे भी फंस सकता है। जिस व्यक्ति कि मध्यमा उंगली छोटी होती है वह व्यक्ति लापरवाह एवं आलसी होता है।

यदि शनि की उंगली का प्रथम खंड लंबा हो तो व्यक्ति का झुकाव धार्मिक ग्रंथ और रहस्यवादी कला के अध्ययन की ओर होता है। यदि मध्यमा का द्वितीय खंड लंबा हो तो व्यक्ति का व्यवसाय संपत्ति संबंधी, रसायन, जीवाश्म ईंधन या लोहा मशीनरी से संबंधित होता है, जब तीसरा खंड लंबा हो तो दर्शाता है कि व्यक्ति चालाक, स्वार्थी और दुराचार में युक्त रहता है।

शनि पर्वत मध्यमा उंगली से नीचे होता है। शनि पर्वत दार्शनिक विचारों को दर्शाता है। शनि पर्वत पूर्ण विकसित होने पर व्यक्ति ज्ञानी, गंभीर एवं विचार शील होता है। वह सोच-विचार कर कुछ कार्य आरंभ करता है एवं उसकी इंद्रियां उसके नियंत्रण में रहतीं हैं।

अनामिका
इस उंगली को अपोलो रिंग या सूर्य कि उंगली कहा जाता है। यह उंगली व्यक्ति की प्रसिद्धि की इच्छा, बुद्धिमत्ता एवं रचनात्मक क्षमता को दर्शाती है। यदि यह उंगली तर्जनी उंगली से अधिक लंबी हो तो यह उंगली सामान्य से अधिक लंबी होती है। इस प्रकार के व्यक्तियों मे जोखिम उठाने की अद्भुत क्षमता होती है। ये रचनात्मक क्षमता के धनी होते हैं। इनका संबंध फैशन या फिल्म क्षेत्र से भी हो सकता है। जिनकी अनामिका उंगली तर्जनी से छोटी होती है वे अपनी स्थिति से संतुष्ट होते हैं तथा उनमें अधिक नाम एवं प्रसिद्धि की इच्छा नहीं होती है। तर्जनी उंगली से छोटी अनामिका उंगली बहुत कम हाथों में पाई जाती है।

सूर्य पर्वत अनामिका उंगली के नीचे होता है। सूर्य पर्वत उन्नत हो तो सफलता का प्रतीक होता है। ऐसे व्यक्ति यश एवं प्रतिष्ठा से संतृप्त होते हैं। परिश्रम एवं कुशाग्र बुद्धि से जीवन मे सफलता प्राप्त करते हैं। ऐसे व्यक्ति भौतिक एवं व्यसायिक क्षेत्रों मे सफल होते हैं। वह धार्मिक होता है परंतु धर्मांध नहीं होता है। वह अपनी योग्यता एवं अयोग्यता को भली भांति जानता है। शीघ्र क्रोध करता है एवं शीघ्र ही शांत भी हो जाता है।

कनिष्ठिका
इस उंगली को बुध की उंगली कहा जाता है। इस उंगली के माध्यम से व्यक्ति की वाकपटुता, ज्ञान, बुद्धि एवं चातुर्य का पता चलता है। यदि इस उंगली की ऊंचाई अनामिका उंगली के प्रथम भाग का जहां अंत होता है वहां तक होती है तो इसकी लंबाई सामान्य है इससे छोटी होने पर यह सामान्य से छोटी मानी जाएगी। जिस व्यक्ति की कनिष्टिका सामान्य से छोटी होती है उनमें अभिव्यक्ति की क्षमता की कमी होती है तथा वे हीन भावना का शिकार होते हैं। उन्हें अपनी भावनाओं एवं शब्दों पर नियंत्रण नहीं होता है। उनके व्यवहार मे बचपना होता है तथा जब यह उंगली सामान्य से अधिक लंबी होती है तब व्यक्ति की अभिव्यक्ति की क्षमता अद्भुत होती है। उनका आई क्यू सामान्य से अधिक होता है तथा वे अच्छे लेखक एवं वक्ता साबित होते हैं। कनिष्ठिका उंगली का निचला भाग मोटा होने पर व्यक्ति विलासिता पूर्ण एवं आरामदायक जीवन जीना पसंद करता है।

बुध पर्वत कनिष्ठिका के नीचे होता है। बुध पर्वत पूर्ण उन्नत होने पर व्यक्ति प्रखर बुद्धि, गंभीर विचार, आकर्षक भाषण एवं लेखन शैली का धनी होता है। ऐसे व्यक्ति व्यवसाय एवं विज्ञान क्षेत्रों मे सफल होते हैं। ऐसा व्यक्ति प्रत्येक शक्तिशाली कार्य क्षेत्र मे विजयी होता है। नानाविध कार्य वह कुशलता पूर्वक सम्पन्न करता है।

हाथ का अंगूठा
हाथ का अंगूठा किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी देता है। हाथ का अंगूठा व्यक्ति की इच्छा शक्ति एवं जीवन शक्ति दर्शाता है। हाथ के अंगूठे के मुख्यतः दो भाग होते हैं। प्रथम भाग इच्छा शक्ति एवं द्वितीय भाग उस व्यक्ति की तर्क क्षमता दिखाता है। अंगूठे का द्वितीय भाग प्रथम भाग से बड़ा होना चाहिए क्योंकि कोई भी निर्णय तर्क से लिया जाना ही उचित होता है। हाथ का अंगूठा बिलकुल सीधा हो तो वह व्यक्ति कठोर एवं जिद्दी होता है। ऐसे व्यक्तियों पर विश्वास किया जा सकता है परंतु इनका स्वभाव जिद्दी होने से इनके अधिक मित्र नहीं बन सकते हैं। अत्यधिक लचीले अंगूठे वाले व्यक्ति खर्चीले होते हैं एवं इन पर आसानी से विश्वास नहीं किया जा सकता है। स्वभाव में लचीलापन होने से इनके बहुत मित्र होते हैं परंतु ये किसी ज़िम्मेदारी का कार्य अधिक कार्य कुशलता से करने में समर्थ नहीं होते हैं क्योंकि इन का किसी एक निर्णय पर डटा रहना बहुत कठिन होता है।

यदि हाथ का अंगूठा केवल 60 डिग्री का कोण खुलते समय बनाता है तो वह व्यक्ति समझदार एवं कार्यकुशल होता है। यदि 90 डिग्री का कोण बनाता है तो व्यक्ति अपने कार्य में जोखिम उठाने की क्षमता रखता है परंतु सदैव विवेकपूर्ण निर्णय लेता है। यदि हाथ का अंगूठा 90 डिग्री से 120 डिग्री तक खुलता है तो व्यक्ति बिना सोचे-समझे अत्यधिक जोखिम उठा सकता है। जिस व्यक्ति का अंगूठा कटि के आकार को होता है वह तर्क-वितर्क में निपुण होता है परंतु शारीरिक रूप से कुछ कमजोर हो सकता है।

अंगूठे का अग्र भाग यदि कोनिकल हो तो व्यक्ति बुद्धिमान एवं रचनात्मक क्षमता से परिपूर्ण होता है। ऊपर से चौड़ा अंगूठा होने पर व्यक्ति जिद्दी होता है। अंगूठे का अग्र भाग यदि चौकोर हो तो व्यक्ति कानून का ज्ञाता होता है तथा वास्तविकता को ध्यान मे रख कर निर्णय लेता है।

यदि हम अंगूठे को अलग कर दे तो चार उंगलियों के कुल बारह भाग होते हैं। ये बारह भाग बारह राशियों का प्रतिनिधित्व करते हैं। तर्जनी उंगली के ऊपरी भाग से गिनती आरंभ करने पर मेष राशि तर्जनी उंगली के प्रथम भाग , वृष राशि तर्जनी उंगली के मध्य भाग एवं मिथुन राशि तर्जनी उंगली के निम्न भाग पर आएगी। इसी प्रकार कर्क राशि मध्यमा के प्रथम भाग, सिंह राशि मध्य भाग एवं कन्या राशि निम्न भाग पर आएगी। अनामिका के प्रथम भाग पर तुला राशि, मध्य भाग पर वृश्चिक एवं अंतिम भाग पर धनु राशि होगी एवं कनिष्ठिका के प्रथम भाग पर मकर राशि, मध्य भाग पर कुम्भ एवं अंतिम भाग पर मीन राशि होगी।

इसी प्रकार हथेली मे सात पर्वत होते हैं। ये सात पर्वत सात ग्रहों का प्रतिनिधित्व करते हैं। हाथ का बढ़ा हुआ मास पिंड करतल पर पर्वत के स्वरूप को धारण करता है। करतल पर पूर्ण विकसित पर्वत व्यक्ति के उच्च चरित्र निर्माण मे सहायक होते हैं। अधोगत पर्वत व्यक्ति के उच्च गुणों को संकुचित करता है।

मंगल पर्वत
मंगल पर्वत के दो स्थान हैं। पहला स्थान जीवन रेखा के ऊपरी स्थान के नीचे एवं दूसरा इसके विपरीत हृदय रेखा एवं मस्तिष्क रेखा के बीच में स्थित है। पहला स्थान शारीरिक अवस्था तथा दूसरा स्थान मानसिक अवस्था का द्योतक है। साहस, बल एवं शक्ति आदि का आकलन प्रथम पर्वत से होता है। यदि मंगल का प्रथम क्षेत्र सुंदर एवं उन्नत हो तो व्यक्ति सेना में या इसी प्रकार के उच्च पद पर आसीन होता है। वह एक सफल अधिकारी सिद्ध होता है। दूसरे पर्वत से व्यक्ति के धैर्य, शौर्य, संयम, क्षमा आदि गुणों का पाता चलता है। पहला पर्वत शारीरिक क्षमता एवं दूसरा पर्वत मानसिक क्षमताओं को दर्शाता है। विकसित मंगल पर्वत वाले व्यक्तिओं के व्यक्तित्व अत्यंत प्रभावशाली होता है। ये लोग जल्दबाजी में निर्णय लेने और आक्रामक स्वभाव वाले होते हैं। मंगल ग्रह अगर विकसित हो तो लोग अक्सर आर्मी या सशस्त्र बल के साथ जुड़े होते हैं। ऐसे लोग अपने उद्देश्यों के प्रति दृढ़ संकल्प रहते हैं। इनका सबसे बड़ा दोष इनमें आवेग और आत्म नियंत्रण की कमी है। ऐसे व्यक्तियों को आत्म -नियंत्रण का अभ्यास करना चाहिए और सभी प्रकार की मदिरा और उत्तेजक पदार्थों से दूर रहना चाहिए। यदि मंगल पर्वत अधिक विकसित है तो व्यक्ति मे मंगल संबंधित विशेषताएं बढ़ती हैं। ऐसे लोग अत्यंत शक्तिशाली बन जाते हैं और अपनी शक्ति के द्वारा वह कमजोरों का शोषण करते हैं। अक्सर ऐसे लोग समाज विरोधी गतिविधियों जैसे चोरी, डकैती, लूट आदि मे शामिल होकर अत्यंत क्रूर बन जाते हैं। कम विकसित मंगल पर्वत व्यक्ति को कायर बनाता है। लेकिन वह बहादुर होने का दावा करता है। जब अवसर की मांग और समय आता है, तो वह अपने कदम वापस ले लेता है।

चन्द्र पर्वत
चन्द्र पर्वत हाथ में बुध पर्वत के नीचे चन्द्र पर्वत स्थित होता है। चन्द्र पर्वत पूर्णतः उन्नत होने पर व्यक्ति बहुत गुणवान एवं कल्पनाशील होते हैं। कल्पना के द्वारा ही वे अपनी प्रतिभा को नई दिशा देते हैं। ये लोग संगीत, काव्य, वस्तु, ललितकला आदि मे प्रवीण होते हैं। ऐसे लोग विपरीत परिस्थिति को भी अनुकूल बनाने का सामर्थ्य रखते हैं। पूर्ण विकसित चंद्र पर्वत व्यक्ति को कला प्रेमी बनाता है। ऐसे लोग कलाकार, संगीतकार, लेखक बनते हैं। ऐसे व्यक्ति मजबूत कल्पनाशक्ति के गुणी होते हैं। यह लोग अति रुमानी होते हैं लेकिन अपनी इच्छाओं के प्रति आदर्शवादी होते हैं। शुक्र पर्वत की तरह इनमें भावुकता या कामुकता वाला स्वभाव नहीं होता है।

पूर्ण विकसित चंद्र पर्वत व्यक्ति को भावनाओं में बहने वाला और किसी को उदास न देखने वाला होता है। प्रायः यह लोग वास्तविकता से परे कल्पना प्रधान और अच्छे लेखक और कलाकार होते हैं। प्रतिकूल परिस्थितियों में ऐसे लोग उन्मादी और तर्कहीन व्यवहार करते हैं। इसके अतिरिक्त ये निर्णय लेने में अधिक समय लेने वाले और अत्यधिक महत्वाकांक्षी होते हैं।

अति विकसित चंद्र पर्वत व्यक्ति को आलसी और सनकी बनाता है। ऐसे व्यक्ति कल्पना से पूर्ण और वास्तविकता से दूर रहते हैं। कभी कभी, यह एक हल्के रूप में विकसित हो कर एक प्रकार का पागलपन भी हो सकता है।

यदि चंद्र पर्वत अविकसित है, तो व्यक्ति मे अच्छी कल्पना का अभाव, दूरदर्शिता का अभाव, नए और रचनात्मक विचारों का अभाव रहता है, यह लोग क्रूर और स्वार्थी होते हैं।

शुक्र पर्वत
शुक्र पर्वत समान्यतः उच्च गुणों का बोधक है। इससे स्वास्थय, सौन्दर्य,प्रेम,दया,सहानुभूति आदि मनोभावों का ज्ञान होता है। इस पर्वत का अत्यधिक उन्नत होने पर व्यक्ति विलासी, कमी और व्यभिचारी भी हो सकता है।

हथेली पर अंगूठे के आधार पर स्थित पर्वत, शुक्र पर्वत कहलाता है। यह अनुग्रह, आकर्षण, वासना और सौंदर्य की उपस्थिति या अनुपस्थिति को दर्शाता है। यह प्रेम और साहचर्य की इच्छा और सौंदर्य की हर रूप में पूजा करने को भी दर्शाता है। अति विकसित शुक्र पर्वत लोगों को सुन्दर और विपरीत सेक्स के प्रति आकर्षित करता है। मित्रों का साथ इन्हें बहुत पसंद होता है। अच्छा कपड़ों एवं अच्छा खाने के शौकीन होते हैं। स्वभाव से स्पष्टवादी होते हैं। पूर्ण विकसित शुक्र पर्वत चुंबकीय व्यक्तित्व के धनी बनाता है ऐसे व्यक्ति विपरीत सेक्स के बीच लोकप्रिय होते हैं। ये लोग जिज्ञासु प्रवृत्ति के होते हैं लेकिन जब यह किसी से प्यार करते हैं तो उनके प्रति पूर्णतः समर्पित होते हैं।

हाथ पर अति विकसित शुक्र पर्वत व्यक्ति में इंद्रिय सुख की इच्छा प्रबल कर देता है। ऐसे लोग प्रेम संबंधों में स्वार्थी होते हैं और सदैव शारीरिक सुख की इच्छा रखते हैं। इसके विपरीत कम विकसित शुक्र पर्वत व्यक्ति को सुस्त एवं कठोर बनाता है। सौन्दर्य एवं भौतिकता के प्रति इनमे कम आकर्षण होता है।

 

Opens to 60 degrees thumb sane person

Lines and palms of hands mountain

The four fingers of the hand and each finger represents a planet.

· Finger – Thursday

· Middle Sat

· Ring Sun

· Knistika Mercury

Finger
The finger of individual ambition, ego and show leadership. The finger‘s fate and get information about the work area. The normal length of the index finger is to the middle of the upper part of the middle. If the finger is longer than normal in the individual‘s ability to lead. In contrast, the smaller the person normally works under the guidance of others, or he likes to work alone and some acts of self. The finger is longer, stronger master of the person.

If the index finger is longer than usual, and so increases the negligence and dictatorship. When these features are fading in the younger person. If the finger is deformed person clever, selfish and hypocritical does.

The first section of the index finger is longer then the person politics, religion, and education sectors are efficient. The second section of the finger is longer then the individual dealer and the third section of the finger is longer fond of such person are a variety of dishes.

Sun Mountain is below the index finger. Public leadership aspiration mature master mountain man, and proud of the policy are complete. If a person skilled in governance and leadership. Advanced Master mountain ambitious person makes. The people value money more than your post. Such people are good advisors. People tend to stay within the law. Many people are fond of eating the dishes and your family will love.

More advanced master mountain arrogant person, ostentatious, brutal and makes jealous. Such people are more expensive.

If you master the mountain under- master in person related basic trend is not developed.

The middle finger
The finger is called the finger of Saturn and the person’s truth, honesty and discipline shows. If the finger is of normal length, ie longer than the other fingers, but not too long and ambitious person is responsible and serious personality is rich. If the finger is longer than usual, so he likes to be alone. And he also might be stuck in the wrong job. The middle finger is shorter person he is careless and lazy.

The first section of the Saturn finger is longer a person’s inclination towards the study of religious texts and the mystic arts. The middle of the second section of long a person’s business assets, chemical, fossil fuel or is related to iron machinery, the third section shows that the longer a person clever, selfish and is rich in misconduct.

Sat mountain is below the middle finger. Sat mountain reflects philosophical ideas. When fully grown man knowledgeable Saturn mountain, is serious and reflective. He has taken some thinking and remain in control of his senses.

Ring finger
The Apollo ring finger or the finger is called the sun. The fame of the individual finger desire, intelligence and creative potential exhibits. If it is longer than the index finger finger finger is longer than usual. Such individuals have the unique ability to take risks. These are rich in creative potential. These links can also be fashion or film sector. Whose index finger is shorter than the ring finger are satisfied with their situation, and they do not want more name and fame. Ring finger and little finger is found in very few hands.

Sun Mountain is under the ring finger. Sun Mountain is a symbol of success is advanced. Fame and reputation are saturated with such a person. Diligence and acumen to achieve success in life. Such persons are successful in the areas of physical and Wysayik. She is religious but does not blinded. He knows very well that his qualification and disqualification. Soon becomes angry and soon cool.

Knishtika
The finger is called the Mercury finger. Eloquence of the individual through the finger, knowledge, wisdom and tact reveals. If the height of the finger ring finger to the end of the first part is where its length is smaller than usual will be deemed to be smaller than normal. The person is shorter than usual pinkie lacks the ability to express them, and they are a victim of inferiority complex. He does not have control over your emotions and words. In their behavior is childish and when the finger is longer than the normal capacity of the person’s expression is amazing. His Eye Q is greater than usual, and they prove to be a good writer and speaker. Bottom of Knishtika fat finger the person likes luxury full and comfortable life.

Mercury is under Knishtika mountain. Mercury mountain man quick to complete advanced, serious consideration, charming speech and writing style is rich. Are successful in business and science fields such person. Each person in this powerful work area wins. Diverse work he has accomplished efficiently.

Thumb
Thumb provides important information about a person’s personality. Thumb reflects the will power and vitality. There are two main parts of the thumb of the hand. The first part and the second part will show the person’s reasoning ability. Thumbs up to the first part of the second part should be taken from any decision logic is reasonable. Thumb very rigid and stubborn person is so straightforward. Such individuals may be to believe them to be stubborn but their nature can not be more than friends. These are inexpensive and highly flexible thumbs person can not easily believe. They are very friendly in nature, but it‘s flexibility to undertake any responsibility are not able to work more efficiently because it is too hard to bear on a decision.

Opening angle of 60 degrees the Thumb makes that person is smart and efficient. Makes an angle of 90 degrees, then the person has the ability to take risks in their work, but always takes decisions. 90 degrees to 120 degrees from the Thumb opens excessive risk-taking that can poke the person. The thumb is the waist size of the person he is versed in debate but may be physically weaker.

If the conical front of thumb person is intelligent and full of creative potential. The person is stubborn thumb up wide. If the front square of thumb is if the person is well versed in law and fact to keep in mind decides.

If we separate the four fingers thumb twelve are part of the total. The twelve signs represent twelve. Start counting from the top of the index finger to the first part of the index finger on the Aries, Taurus, Gemini index finger and the middle finger will be on the lower part. Similarly, the first part of the middle crab, Leo and Virgo central part will on the part. The first part of the ring finger on the Libra, Scorpio and final part of the central portion of the first part Knishtika Sagittarius and Capricorn will be, will be the central part Aquarius and Pisces on the last part.

Similarly, in the palm are seven mountains. The Seven Mountains represent the seven planets. Increased body mass palm of the hand holds the appearance of the mountain. Mature palm of mountain people are helpful in building high character. Adogt mountain is compressed to high qualities of the person.

Mars Mountain
Mars Mountain are two. The first location below the upper lifeline and the second contrast is between the heart line and head line. First place and second place, physical condition, mental state represents. Courage, strength and power is evaluated first mountain. The first area is beautiful and advanced Tue be the person in the military or have similar ranking. He has proven a successful officer. Another person from the mountain patience, courage, patience, forgiveness, etc. that finds properties. The first mountain physical ability and mental abilities shows another mountain. Tue Mountain has developed highly influential personalities of the individuals. These people are in a hurry to make decisions and aggressive nature. Tue evolving planet if people are often associated with the Army or the armed forces. Such determination to keep their objectives. The biggest drawback is the lack of them, and self-control impulse. Such persons should practice self-control in all kinds should stay away from alcohol and stimulant. Tue Tue mountain in the more developed person related characteristics are increasing. Such people become extremely powerful and that by his power to exploit the weak. People often anti-social activities such as theft, robbery, robbery, etc. become involved in the extremely cruel. Tue mountain coward person makes less developed. But he claims to be brave. And the time comes when the occasion demands, so he takes his steps back.

Moon Mountain
Moon Mountain Moon Mountain in hand at the bottom of the mountain is Mercury. Moon Mountain very talented and imaginative individuals are fully upgraded. Imagination by giving a new direction to his talent. These people music, poetry, object, etc. in fine arts ere are proficient. Such people are capable of adapting to the adverse circumstances. Mature lunar mountain man makes art lover. People artist, musician, writer become. The virtuous person has strong imagination. The people are very romantic, but do not be surprised to their wishes. These include the nature of the Mount of Venus is not sentimentality or sexuality.

In full-blown emotions flowing and one lunar mountain depressed person is not supposed to see. People often beyond reality and fantasy head are good writers and artists. People are crazy and irrational behavior in adverse conditions. Furthermore, these decisions are more time-consuming and highly ambitious.

Highly developed lunar mountain man makes lazy and cynical. Full of fantasy and reality are far from such a person. Sometimes, it can be developed into a mild schizophrenia may be.

If the moon is undeveloped mountain, in the person lacks good imagination, vision, new and lacks creative ideas, the people are cruel and selfish.

Shukra Mountain
Shukra mountain is commonly symptomatic of high qualities. The health, beauty, love, compassion, empathy, etc. have the knowledge of emotions. This highly advanced when the person luxurious mountain, can be reduced and adulterous.

Located at the base of the thumb on the palm mountain, the mountain is called Venus. The grace, charm, sensuality and beauty that reflects the presence or absence. The beauty of love and companionship and the desire to worship in every shows. Highly developed Venus beautiful mountain people are attracted to the opposite sex. With friends like these are great. There are good clothes and good foodie. Nature are forthright. Magnetic Mount Venus makes a man full grown man are popular with the opposite sex. They are inquisitive nature but love it when they are totally dedicated.

Hand-over-developed sense of Venus mountain person makes a strong desire happiness. Such people are selfish in love relationships and are always willing to physical pleasure. In contrast to the dull and rigid person makes less developed Venus mountain. These have less to physical beauty and charm.

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - at 9:39 am

Categories: Astrology   Tags: ,

Palmistry – Learn age from wrist lines

 

कलाई की रेखाओं से जानें आयु

मणिबंध रेखाएं हर किसी की कलाई पर मौजूद होती हैं। जानते हैं? हस्तरेखा विज्ञान कलाई पर मौजूद इन्हीं मणिबंध रेखाओं से उस व्यक्ति की उम्र के बारे में भी बता देता है। हर किसी के हाथ में इन रेखाओं की स्थिति अलग-अलग होती है। आइए जानें, कैसे ये मणिबंध रेखाएं निर्धारित करती हैं हमारा जीवन…

जिनकी कलाई पर इन रेखाओं की संख्या चार होती हैं, कहते हैं वैसे लोग शतायु होते हैं। उन्हें मौत से डरने की जरूरत नहीं होती।

जिनकी कलाई पर तीन मणिबंध रेखाएं होती हैं, वे तकरीबन 70-75 साल की आयु जी लेते हैं।

यही रेखाएं यदि कलाई पर सिर्फ दो नजर आती हों तो ऐसे लोग केवल 50-55 साल जीते हैं।

34524072
जिनकी कलाई पर मणिबंध रेखा केवल एक लाइन में नजर आती हो कहते हैं उन्हें मौत से काफी खतरा होता है।

कई लोगों की कलाई पर रेखाएं कटी-फटी सी नजर आती हैं, जो यह बताती हैं कि उनकी जिंदगी में बाधाओं का अंबार सा लगा रहेगा।

जिनकी कलाई पर दो रेखाएं आपस में मिल जाएं, कहा जाता है कि उनके भाग्य पर दुर्भाग्य की काली साया मंडराती रहती है। ऐक्सिडेंट वगैरह से शरीर के किसी भी अंग का नुकसान हो सकता है।

मणिबंध रेखाएं जितना साफ-सुथरी और गहरी हो उतना ही ब्राइट होता है उनका भविष्य।

मणिबंध रेखाएं कलाई से निकलकर ऊपर उठती दिखे तो समझ लीजिए उस व्यक्ति की कोई भी इच्छा पूरी होने में कभी देर नहीं लगेगी।

 

Learn age from wrist lines

The lines are on everyone’s wrist wrist. Do you know? Palmistry lines on the wrist from the same wrist will tell about the age of the person. The position of these lines in the hands of everyone is different. Here’s how they determine our life lines wrist

Whose wrists are four of these lines, says the people are centenarians. They do not have to fear death.

There are three lines on the wrist whose wrist, they are able to live about 70-75 years old 0.34524072

That‘s just two lines appear on the wrist if people only live 50-55 years.

Whose wrist to wrist line appears in only one line puts them at risk from death.

Many people seem to be on the wrist lines cuttorn C, which explains the obstacles in his life which will continue flooding.

Whose wrist to get the two lines together, it is said that the black shadow of misfortune linger over their fate. Accident etc. can damage any part of the body.

The clean lines and deep wrist is just as much their future bright.

The lines rising up out of the wrist wrist spotted any wish to consider this person will never late.

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - at 9:31 am

Categories: Astrology   Tags: ,

Action stunts not easy says – Rohit Shetty

अ‍ॅक्शन स्टंट सोपे नसतात बॉस..

‘चित्रपट म्हणजे पोट धरून हसायला लावणे किंवा थरारक अ‍ॅक्शन’ असे दोनच प्रकार मानणाऱ्या प्रेक्षकवर्गाला रोहित शेट्टीने ‘गोलमाल’, ‘सिंघम’, ‘बोलबच्चन’, ‘चेन्नई एक्स्प्रेस’ या चित्रपटांमधून अ‍ॅक्शन आणि विनोद यांची एकत्रित मेजवानी देऊ केली. प्रत्यक्ष जीवनातही रोखठोक आणि बिनधास्त असलेला रोहित ‘खतरों के खिलाडी- डर का ब्लॉकबस्टर’ या ‘कलर्स’ वाहिनीवरील शोमधून टीव्हीवर परतत आहे. टीव्हीवरील लोकप्रिय कलाकारांकडून विविध प्रकारचे साहसी स्टंट करवून त्यांच्या शारीरिक आणि मानसिक क्षमतेची चाचणी घेणाऱ्या या शोमध्ये तो सूत्रसंचालकाच्या भूमिकेत दिसणार आहे. रोहितचे अ‍ॅक्शनपटांवरील प्रेम सर्वश्रुत आहे. यानिमित्ताने चित्रपट असो किंवा टीव्हीवरचा शो अ‍ॅक्शन स्टंट करणे हे सोपे नसते, त्यामुळे प्रेक्षकांनी अ‍ॅक्शन स्टंट्सकडे आणि स्टंटमनच्या कामाकडे गंभीरतेने पाहण्याची गरज त्याने बोलून दाखवली.
   एरवी पडद्यामागे राहणाऱ्या दिग्दर्शक रोहितचे खरे स्वरूप शोच्या माध्यमातून प्रेक्षकांसमोर येते. एखाद्या परीक्षकाप्रमाणे समोरच्या स्पर्धकावर डाफरण्यापेक्षा त्यांच्याशी मित्राप्रमाणे संवाद साधण्याची, गरज पडल्यास त्यांना मार्गदर्शन करण्याची त्याची वृत्ती मागच्या पर्वामध्ये प्रेक्षकांना भावली होती. त्यामुळे शोच्या नव्या पर्वाची ते आतुरतेने वाट पाहत होते. रोहितही या पर्वाबद्दल कमालीचा उत्सुक होता. अर्थात यामागचे कारण विचारल्यावर, यंदाच्या पर्वामध्ये आमचा कोणताही अ‍ॅक्शन स्टंट वाया गेला नसल्याचे समाधान असल्याचे तो सांगतो.
विनोद आणि अ‍ॅक्शन या दोन्ही प्रकारांवर रोहितचे सारखेच प्रेम आहे. विनोदाच्या बाबतीत तो उत्स्फूर्त विनोदनिर्मितीला प्राधान्य देतो. जर सीन वाचून आपल्याला हसू येत असेल, तर प्रेक्षकाला हसू येणारच, हे तो आत्मविश्वासाने सांगतो. पण अ‍ॅक्शनचा विषय निघताच तो किंचित जास्त भावनिक होतो, ते स्टंटमनसाठी. ‘माझ्या चित्रपटांमध्ये लोकांना गाडय़ा उडताना पाहून ‘याच्या चित्रपटांमध्ये केवळ गाडय़ा उडत असतात,’ असे बोलले जाते, पण प्रेक्षकांनी लक्षात घेतलं पाहिजे प्रत्येक गाडीत स्टंटमन बसलेला असतो, जो केवळ तुमच्या मनोरंजनासाठी स्वत:चा जीव धोक्यात घालत असतो,’ हे तो स्पष्टपणे सांगतो. रोहितला अ‍ॅक्शन या प्रकाराचे बाळकडू त्याच्या वडिलांकडून मिळाले आहे. त्याचे वडील मधू बलवंत शेट्टी सत्तरीच्या दशकातील बॉलीवूडमधील नावाजलेले स्टंट डायरेक्टर आणि खलनायक होते. त्यांच्याकडून मिळालेला हा वारसा रोहितने उत्तमरीत्या पुढे चालविला. चित्रपटांमधील अ‍ॅक्शन स्टंट्सबद्दल बोलत असतो, तेव्हा हे स्टंट्स तयार करताना त्याने केलेली मेहनत त्याच्या शब्दांमधून व्यक्त होत असते. चित्रपटांमध्ये उडणाऱ्या गाडय़ा या नेहमीच्या गाडय़ा नसतात, त्यांचे इंजिन, यंत्रप्रणाली सर्व वेगळे असते. त्यात पेट्रोल किती असायला हवे, किती आग लागणे गरजेचे आहे याचाही बारकाईने अभ्यास होत असल्याचे तो सांगतो. अर्थात हे सांगताना त्याच्या डोळ्यांत दिसणारी चमक, त्याने या सर्वाचा किती बारकाईने अभ्यास केला आहे हे सांगून जाते.
   त्यामुळेच कदाचित या शोच्या मागच्या पर्वात काही स्टंट पूर्ण न झाल्यामुळे तो नाराज झाला होता. ‘प्रेक्षकांना केवळ मुख्य शो दिसतो, पण शो चित्रित करण्याच्याही आधी तब्बल तीन महिने मी किंवा माझे सहकारी प्रत्येक स्टंट बारकाईने तयार करीत असतो. त्या स्टंटमधील प्रत्येक शक्यता तपासून पाहिली जाते. कित्येकदा तर एखादा स्टंट तयार करायला आम्हाला संपूर्ण महिना द्यावा लागतो. मगच तो स्पर्धकाला करायला सांगितला जातो,’ असे सांगताना इतकी मेहनत घेतल्यावर जर काही कारणाने तो स्टंट पूर्ण झाला नाही, तर त्याला होणारे दु:ख साहजिक असल्याचे समोरच्यालाही पटते. अ‍ॅक्शन स्टंट म्हटले की, जिवावर उदार होणे आलेच, पण कोणताही स्टंट तयार करताना त्याच्या परिणामांची आणि त्यावरील उपायांची पूर्ण तयारी करीत असल्याचे तो सांगतो. ‘अपघात होईलच, हा आमचा पहिला विचार असतो, मग तो होऊ नये म्हणून काय करता येईल, हे आम्ही पाहतो,’ असे सांगताना स्टंट करणाऱ्या स्टंटमनची किंवा अभिनेत्याची सुरक्षितता ही मुख्य बाब असल्याचे तो सांगतो.
सध्या तो शाहरुख खानसोबतच्या त्याच्या आगामी चित्रपटाच्या तयारीत गुंतला आहे, पण त्याबद्दल लवकरच घोषणा करणार असल्याचे तो सांगतो. त्यासोबत पुढील वर्षी अजय देवगणसोबत ‘सिंघम’मधून परतण्याचा त्याचा विचार आहे. ‘गोलमाल’च्या चौथ्या भागाची आपल्यालाही उत्सुकता आहे, पण योग्य कथेच्या शोधत असल्याचे तो सांगतो. थोडक्यात सांगायचे तर या दोन वर्षांमध्ये रोहित शेट्टीच्या चित्रपटांचा आणि त्याच्या अ‍ॅक्शन स्टंट्सचा धडाका पाहायला मिळणार हे नक्की.  
माझ्या चित्रपटांमध्ये केवळ गाडय़ा उडत असतात, असे बोलले जाते; पण प्रेक्षकांनी लक्षात घेतलं पाहिजे प्रत्येक गाडीत स्टंटमन बसलेला असतो, जो केवळ तुमच्या मनोरंजनासाठी स्वत:चा जीव धोक्यात घालत असतो. चित्रपटांमध्ये उडणाऱ्या गाडय़ा या नेहमीच्या गाडय़ा नसतात, त्यांचे इंजिन, यंत्रप्रणाली सर्व वेगळे असते. त्यात पेट्रोल किती असायला हवे, किती आग लागणे गरजेचे आहे याचाही बारकाईने अभ्यास होत असतो. अ‍ॅक्शन स्टंट म्हटले की, जिवावर उदार होणे आलेच, पण कोणताही स्टंट तयार करताना त्याच्या परिणामांची आणि त्यावरील उपायांची पूर्ण तयारी केली जाते. अपघात होईलच, हा आमचा पहिला विचार असतो, मग तो होऊ नये म्हणून काय करता येईल, हे आम्ही पाहतो. कारण स्टंट करणाऱ्या स्टंटमनची किंवा अभिनेत्याची सुरक्षितता सर्वात महत्वाची असते.. – रोहित शेट्टी

Be the first to comment - What do you think?  Posted by admin - February 1, 2015 at 8:47 am

Categories: Filmy, Marathi   Tags: ,

« Previous Page

© 2010 PupuTupu.in